Best Poems Creative Columns 

जब से मिले हो तुम – Written by Vimmi Malhotra

जब से मिले हो तुम

जब से मिले हो तुम
मैं खोई रहती हूँ
कुछ अनकहे और
उलझे से कुछ
सवालों के घेरे में
जिनमें उलझना तो है आसान
लेकिन जिन्हें सुलझाना है
बहुत ही कठिन
आखिर तुम्हारी इन आँखों कि
चमक ने ही तो
जन्म दिये हैं
ना जाने कितने ही सवालों को




क्या है वास्तव में
तुम्हारी आँखों में
जो दिखती तो हैं सागर सी विशाल
लेकिन एक नदी सी
ठहरी हुई चमक बिजली सी
काली घटा सी कभी
बरसने को रहती हैं आतुर
डूब जाना चाहती हूँ
hhng
तुम्हारी इन झील सी
शांत और गहरी आँखों में
क्योंकि अब इनमें डूबकर ही
ढूँढ पाऊँ अपने सवालों के जवाब
जो बहुत कठिन तो हैं
लेकिन ये सवाल
तुम्हारी आँखों से शुरू
और उनपर ही
खत्म हो जाते हैं।



Comments

comments

(Visited 138 times, 1 visits today)

Related posts